Hindi Kahani (हिंदी कहानी )(www.agrashar.com)

Hindi Kahani (हिंदी कहानी,दोस्ती की परख)(www.agrashar.com)

=  बहुत पुरानी बात है,एक बकरी थी वो बहुत खुसी खुसी अपने गांव में रहती थी/ वो बहुत मिलनसार थी/ बहुत सारी बकरियां उसकी सहेलियां थीं/ उसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी/ वो सभी से बात कर लेती थी और सभी को अपना दोस्त बना लेती थी/ 

       

 सभी कुछ अच्छा चल रहा था/ लेकिन एक बार वो बकरी बीमार पड़ी और इसके कारण वो धीरे-धीरे बीमार पड़ने लगी/ इसलिए वो पूरा दिन घर पर ही रहने लगी/ बकरी ने जो खाना पहले से ही जमा करके रखा था वो अब धीरे-धीरे ख़तम हो रहा था/

 एक दिन उस बकरी की कुछ बकरी सहेलियां उससे उसका हाल-चाल पूछने आयीं,तब उन्हें देखकर वह बकरी बहुत खुश हुई, उसने सोचा की वह अपनी सहेलियों से कुछ दिनों का खाना मंगवा लेगी, लेकिन वह बकरियां उससे मिलने के लिए अंदर आने से पहले ही उसके घर के बहार ही रुक गयीं, और उसके आँगन में रखा उसका बचा हुआ खाना घास-फूस खाने लगीं


  ये सब देखकर उस बकरी को बहुत बुरा लगा/ उसे यह बात समझ आगयी की उसने अपने जीवन में क्या गलती की? अब वो सोचने लगी की काश हर किसी को अपने जीवन का हिस्सा व् दोस्त बनाने से पहले थोड़ा परख लिया होता तो इस बीमारी की मुश्किल घडी में उसके साथ कोई तो होता/

हम अपने जीवन में क्या गलती करते हैं की हम कोई भी दोस्त बनाने से पहले उससे परखते नहीं हैं. जिसका परिणाम हमें आगे चलकर भुगतना पड़ता है/ और उसके जिम्मेदार हम ही होते हैं.
 हम अपने जीवन में अधिकतर उन्ही के साथ रहना पसंद करते हैं जिनकी आदत अच्छी नहीं होती,लेकिन ये गलत है हमें बदलाव लाना पड़ेगा/

धन्यवाद - दोस्तों अगर मेरा कोई शब्द बुरा लगा हो तो में मांफी चाहता हूँ,

और अगर आपको कुछ अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्त और रिस्तेदार के पास शेयर जरूर करें,

अगर आपके मन में कोई विचार या कोई सवाल हो तो मुझे Contect us में जाकर जरूर बताएं में जरूर उत्तर दूंगा                                         धन्यवाद









Post a comment

0 Comments